अभी-अभी किसान आंदोलन को लेकर राकेश टिकैत ने कर दिया बड़ा ऐलान।

0
1164

कृषि कानून को लेकर देश में काफी समय से किसान आंदोलन के शांतिपूर्वक चल रहा थाजिसके चलते 26 जनवरी को किसानों ने दिल्ली में ट्रैक्टर मार्च किया था ट्रैक्टर मार्च में कुछ झ ड़प सामने आई थी इस आंदोलन को कमजोर करने में राजनीतिक पार्टियों का एम भूमिका सामने आ रही है कल जैसे कि देखा था किसान आंदोलन विरोध में कुछ शरारती तत्व नेहा के पत्थरबाजी की थी जिससे किसानों का मनोबल टूटने की बजाय और बढ़ गया है

किसानों के नेता राकेश टिकैत का कहना है कि की यह लड़ाई किसान व सरकार के बीच नहीं है यह लड़ाई देश के सभी नागरिकों के लिए है कृषि कृषि कानून से किसानों के साथ देश के सभी नागरिकों का काफी बड़ा नुकसान है राकेश टिकैत का यह भी कहना है जब तक उनकी सांस है यह आंदोलन ऐसे ही चलता रहेगा राकेश टिकैत ने साफ कर दिया है कि वह पीछे हटने वालों में से नहीं है

राकेश टिकैत ने साफ कर दिया है कि आंदोलन आप खत्म नहीं होगा या आंदोलन अब तक खत्म होगा जब यह कृषि कानून वापस लिए जाएंगे राकेश टिकैत पर सरकार द्वारा काफी शक्ति बढ़ती जा रही है राकेश टिकैत को गिर फ्ता करने के लिए पुलिस भी आई थी जिसके चलते राकेश टिकैत भावुक हो गए थे राकेश टिकैत के भावुक होने के बाद किसानों की काफी लंबी कतार आनी शुरू हो गई है और यह आंदोलन फिर से एक मजबूत आंदोलन बन कर खड़ा हो गया है सरकार की मुश्किल है बढ़ती जा रही है

सरकार ने आंदोलन कर रहे किसान नेताओं पर गंभीर आरोप लगाते उन पर एफ आई आर दर्ज कर दिए सरकार कुछ किसान नेताओं ने आंदोलन में अपने हाथ पीछे खींच लिए हैं वही राकेश टिकैत मजबूती से आंदोलन को संभाल रहे हैं आंदोलन की जगह टिक्की बॉर्डर सिंधु बॉर्डर व गाजी पुर बॉर्डर पर 31 जनवरी तक इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी हैं किसानों ने स्पष्ट कर दिया है कि वह पीछे हटने वालों में से नहीं है या तो यह बिल वापस होगा या यह आंदोलन ऐसे ही चलता रहेगा