‘अमेरिकी राष्ट्रपति कोई चौधरी है क्या?’ ट्रंप से मोदी की बातचीत पर भड़के असदुद्दीन ओवैसी

0
947

Asaduddin Owaisi disappointed over PM Modi and Donald Trump’s conversation: हैदराबाद के सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार को कश्मीर मुद्दे पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा की गई बातचीत पर सवाल उठाए हैं। ओवैसी की नाराजगी प्रधानमंत्री द्वारा जम्मू और कश्मीर के विशेष दर्जे को भंग करने के केंद्र के फैसले के बाद क्षेत्रीय घटनाक्रम पर चर्चा करने के लिए सोमवार को डोनाल्ड ट्रम्प से फोन पर बात करने के बाद आई। बता दें रिपोर्ट्स के मुताबिक कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान के साथ जारी तनाव के बीच बीते दिनों पीएम मोदी और ट्रंप के बीच करीब 30 मिनट फोन पर बातचीत हुई थी।

पीएम मोदी और डोनाल्ड ट्रम्प के बीच हुए बातचीत पर निराशा व्यक्त करते हुए, ओवैसी ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि कुछ दिन पहले अमेरिकी राष्ट्रपति ने दावा किया था कि पीएम मोदी ने उन्हें कश्मीर मुद्दे पर मेडीयेट करने को कहा है। इस बातचीत के बाद पीएम ने ट्रम्प के इस दावे को सही साबित कर दिया है। ओवैसी ने कहा “प्रधान मंत्री मोदी के फोन पर ट्रम्प से बात करने और इस द्विपक्षीय मुद्दे पर चर्चा करने पर मुझे आश्चर्यच हुआ है। उनके ऐसा करने से अमेरिकी राष्ट्रपति का मेडीयेट करने वाला दावा सही साबित होता है। यह एक द्विपक्षीय मुद्दा है और ईस मुद्दे पर किसी तीसरा पक्ष को हस्तक्षेप करने की अनुमति नहीं है।”

ओवैसी ने आगे पूछा कि क्या ट्रम्प पूरी दुनिया के “पुलिसकर्मी” हैं या कोई “चौधरी” हैं। ओवैसी ने गुस्से में पूछा “शुरू से ही, हम यह कहते रहे हैं कि कश्मीर एक द्विपक्षीय मुद्दा है। भारत का इस पर बहुत ही स्थिर रुख है। फिर प्रधानमंत्री मोदी को अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को बुलाने और इसकी शिकायत करने की क्या आवश्यकता थी?” उन्होंने आगे कहा “हमारे प्रधान मंत्री ने फोन पर ट्रम्प से शिकायत की। हमारे लिए ट्रम्प कौन है? क्या वह पूरी दुनिया के पुलिसकर्मी हैं या कोई चौधरी हैं?”

सोमवार को पीएम मोदी और ट्रंप के बीच फोन पर बातचीत हुई, जिसमें उन्होंने जम्मू-कश्मीर में तनाव कम करने की जरूरत पर जोर देते हुए क्षेत्रीय विकास पर चर्चा की। पिछले हफ्ते, डोनाल्ड ट्रम्प ने पाकिस्तान के प्रधान मंत्री इमरान खान से बात की थी और उनसे द्विपक्षीय रूप से भारत के साथ कश्मीर मुद्दों को हल करने के लिए कहा था।