कुर्बानी की ‘कलेजी’ नहीं मिली तो मासूम भतीजी के साथ किया ऐसा काम और फिर….

0
2128

गाजियाबाद। गाजियाबाद के थाना खोड़ा क्षेत्र में 12 अगस्त को ईद के दिन लाइबा नाम की बच्ची लापता हो गई थी। 17 अगस्त को पुलिस को उसकी लाश नाले में पड़ी मिली थी। पुलिस ने मासूम की मौत की गुत्थी सुलझाते हुए बच्ची के हत्यारे चाचा को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने बताया कि चाचा ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है।

ईद के दिन एक बच्ची लापता हो गई थी। परिवार ने इसकी सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मामले की जांच शुरू की, जिसके बाद बच्ची का शव 17 अगस्त को साईं मंदिर के पास नाले में मिला। जांच में पुलिस को प्रथम दृष्टया यही लग रहा था कि बच्ची की हत्या में कोई परिवार का सदस्य शामिल है। पुलिस ने जब मृतक के परिवारवालों से पूछताछ की तो बच्चीके चाचा पर पुलिस को शक हुआ। शक को आधार मानते हुए पुलिस ने चाचा से दोबारा पूछताछ की तो चाचा ने अपना जुर्म कुबूल कर लिया।

आरोपी सलीम ने बताया कि ईद के दिन कुर्बानी के बाद कलेजी अपने घर देने के लिए उसने लाइबा को बुलाया, लेकिन लाइबा कलेजी को सलीम के घर न ले जाकर अपने घर ले गई, जिससे मुझे गुस्सा आ गया और मैंने लाइबा के चांटा मार दिया। लाइबा का सिर दीवार से टकरा गया और वो मर गई। सलीम ने शव को लाइबा के पिता के कमरे में छुपा दिया, लेकिन जब उसे लगा कि सारा शक उसके ऊपर जाएगा तो उसने रात में शव को साईं मंदिर के पास नाले में फेंक दिया और परिवार के साथ अपनी भतीजी की तलाश करने का नाटक करने लगा।