जबरन लगवाया ‘जय श्रीराम’ का नारा तो मुस्लिम युवक ने ईटों से आत्मरक्षा में….

0
17084

आए दिन आप इस तरीके की घटनाएं सोशल मीडिया पर देखते रहते होंगे

जबरन जय श्रीराम के नारा लगाने और इंकार करने पर हिंसा के मामलों के बीच अब एक ऐसा मामला सामने आया है। जिसमे एक युवक ने आत्मरक्षा में जबरन नारा लगवाने और हिंसा करने वाले युवक को मौ’त के घाट उतार दिया।

जानकारी के अनुसार, मामला पश्चिम बंगाल के आसनओल के है। पुलिस ने आरोपी मो कबीर को हिरासत में ले लिया है। मृतक की पहचान सूरज भादुर (24) के रूप में हुई है। जो पीड़ित से जय श्री राम ’का नारा जबरन लगवा रहा था।

भादुर की बहन ने ह’त्या के कुछ घंटे बाद 23 जुलाई को आसनसोल उत्तर पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई। कबीर की गिरफ्तारी के बाद भाजपा समर्थकों ने रविवार को विरोध में पुलिस स्टेशन को घेर लिया। पश्चिम बर्दवान भाजपा के अध्यक्ष लक्ष्मण घरूई ने ओसी को एक अल्टीमेटम जारी किया, जिसमें बड़े पैमाने पर आंदोलन की चेतावनी दी गई कि अपराधी को तीन दिनों के भीतर गिरफ्तार किया जाए।

दरअसल, 23 जुलाई को सूरज और कबीर दोनों के साथ शराब पीने वाले गवाहों से पूछताछ करने के बाद, पुलिस को पता चला कि उसके दोस्तों में से एक ने कबीर को सलाह दी थी कि वह आसनसोल में आत्मसमर्पण या पलायन करे। पुलिस दोस्तों पर नज़र रख रही थी और गुलज़ार मोहल्ला इलाके में कबीर को उसके घर से निकालने में कामयाब रही। उसे एक स्थानीय अदालत ने 14 दिनों के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया।

अदालत के बाहर, कबीर ने कहा: “मैंने उसे (भदुर) गलती से मार दिया। उसने मुझे। जय श्री राम का नारा लगाने के लिए मजबूर करने की कोशिश की। ऐसे में मैंने खुद को बचाने की कोशिश की।”

हालांकि, पुलिस ने जोर देकर कहा कि कबीर, जो नियमित रूप से सूरज और अन्य दोस्तों के साथ शराब पीता था, सूरज के कथित रूप से शराब के नशे में पीटने के बाद गुस्से मे था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि जब ये ग्रुप 23 जुलाई को फिर से शराब पीने के लिए मिला, तो कबीर ने सूरज पर कथित रूप से ईंटों से मारा, जिससे उसकी मौत हो गई।

उन्होंने कहा, “हमने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और उस पर धारा 302 आईपीसी के तहत ह’त्या का आरोप लगाया है।” हालांकि, घोरुई ने आरोप लगाया: “हमारे समर्थक को धोखा दिया गया। यह तृणमूल की पूर्व नियोजित ह’त्या है। लोकसभा चुनाव के बाद से तृणमूल आसनसोल-दुर्गापुर औद्योगिक क्षेत्र में परेशानी खड़ी कर रही है। बीजेपी कार्यकर्ताओं पर झूठे आरोप लगाए गए हैं। पुलिस को सबकुछ पता था लेकिन जब तक हमने अल्टीमेटम नहीं दिया तब तक आरोपी को गिरफ्तार नहीं किया।

बाद में, तृणमूल के आसनसोल के मेयर जितेंद्र तिवारी ने सूरज की मां और बहनों से उनके घर पर मुलाकात की। उन्होंने दो बहनों के शैक्षिक खर्चों को पूरा करने और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का वादा किया। तिवारी ने कहा, “यह राजनीति का सही समय नहीं है।”