दिल्लीः ट्रैक्टर परेड के बीच 1 किसान की मौत, दिल्ली पुलिस का जवान भी बेहोश

0
441

किसान आंदोलन में ट्रैक्टर परेड के बीच एक किसान की मौत हो गई वह दिल्ली पुलिस के जवान भी घायल हुए हैं। कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन पर अड़े किसानों की ट्रैक्टर परेड में मंगलवार को एक किसान की मौ त हो गई। जिस प्रदर्शनकारी की जा न गई है, उसका नाम नवनीत बताया जा रहा है। वह उत्तराखंड का निवासी था। हालांकि, मौ त कैसे हुई?

फिलहाल इस बारे में अधिक जानकारी नहीं है। किसानों का कहना है कि पुलिस की गो ली चलाने की वजह से किसान की मौ त हुई है इसी बीच, दिलशाद गार्डन इलाके में एक पुलिस कर्मचारी ड्यूटी के दौरान बेहोश हो गया। वह ‘किसान गणतंत्र परेड’ के मद्देनजर वहां तैनात किया गया था। समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, मौके पर दूसरे साथी पुलिस वालों ने उसे पानी पिलाया और संभाला। बाद में उसे नजदीक के एक अस्पताल ले जाया गया। जहां उसका इलाज चल रहा है

दरअसल, मोदी सरकार के लाए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलनरत किसानों ने गणतंत्र दिवस पर ट्रैक्टर परेड का आह्वान किया था। यह ट्रैक्टर मार्च मुख्य परेड (राजपथ वाली) के बाद दोपहर 12 बजे शुरू होनी थी, पर किसान सिंघु समेत कई बॉर्डर्स पर उग्र होते हुए दिल्ली में दाखिल हो गए थे। पुलिस के मना करने के बाद भी वे कंटेनर्स और बै रिके ड्स लांघ कर आगे आ गए।

बाद में ये तय रूट से अलग मार्च करते हुए आईटीओ जा पहुंचे। वहां कुछ किसानों ने खूब उत्पाद मचाया। डीटीसी बस में तो ड़फो ड़ की। एक किसान तो ट्रैक्टर लेकर पुलिस को खदेड़ने की कोशिश करने लगे। कुछ पुलिस वालों ने दावा किया कि किसानों ने ट्रैक्टर के जरिए उन्हें रौं दने की कोशि श की। हालांकि कुछ देर बाद पुलिस ने टिय र गैस के गो ले दागे, तब वे तितर-बि तर हुए।

उधर, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता के राकेश टिकैत ने कहा की “हमारे सब लोग शांतिपूर्ण तरीके से जा रहे हैं। जो लोग गड़बड़ फैलाने की कोशिश कर रहे हैं वो चिन्हित हैं। वो राजनीतिक दल के लोग हैं और इस आंदोलन को खराब करना चाहते हैं।”