PM मोदी की इस बात से नाराज होकर बोले बरेलवी उलेमा, जोर जबरदस्ती मुसलमानों के…..

0
2495

15 अगस्त को लाल किले से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जनसंख्या विस्फोट और उसके दुष्परिणाम की बात कही थी। तभी से बरेलवी उलेमा में इस बयान को लेकर बेचैनी है। उलेमा ने कहा कि जोर जबरदस्ती जनसंख्या कंट्रोल करना इस्लाम में नाजायज है।

इस मसले पर उलेमा का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है।
तंजीम उलेमा ए इस्लाम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन का विवादित बयान सामने आया है।

उनका कहना है कि ये शरीयत के हिसाब से ठीक नहीं है और ऐसे किसी भी कानून का विरोध किया जायेगा। लोग खुद की इच्छा से जनसंख्या नियंत्रण करें तो ये शरीयत में भी जायज है। बरेलवी मसलक के से जुड़े उलेमा ने कहा है कि हुकूमत लगातार शरीयत में दखलअंदाजी कर अपने फैसला सुना रही है, जो गलत है। हिंदुस्तान आजाद देश है, यहां हर मजहब के लोगों को अपने धर्म का पालन करने का अधिकार है।

मौलाना ने कहा कि पापुलेशन कंट्रोल के सिलसिले में शरियत इस्लामिया ने कोई पाबन्दी नही रखी है,इस्लाम पाबन्दी की इज्जत नही देता है। उन्होंने कहा अगर लोग अपने तौर पर खुद ऐहतियात बरते है तो इसमे भी कोई हर्ज नही है,और ये नाजायज भी नही होगा। मगर हुकूमत किसी जोर जबरदस्ती के ज़रिए पापुलेशन कम करने की बात करती है तो ये नाजायज होगा।

अगर इसकी कोशिश की गई तो एक बहुत बड़ा तबका विरोध करने पर भी उतर आएगा। अगर इस तरह की कोई पॉलिसी आते है तो हम लोग विरोध करेंगे और मुस्लिम संगठन भी विरोध करेंगे।