एटीएम ट्रांजैक्शन को लेकर नियमों में बड़ा बदलाव जानिए और उठाइए लाभ

0
366

देश की सबसे बड़ी बैंक कही जाने वाली भारतीय स्टेट बैंक यानी कि एसबीआई ने 1 दिन में एटीएम ट्रांजैक्शन के कानूनों में बड़ा बदलाव किया है स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने ग्राहकों के लिए एक नए ऑफर की भी शुरुआत कर दी है जो एटीएम की लिमिटेड ट्रांजैक्शन की वजह से कैश नही निकाल पाते हैं।

नए नियमों के अनुसार अगर माना जाए तो एटीएम से किए गए ट्रांजैक्शन के लिए अतिरिक्त शुल्क चुकाना पड़ सकता है यह फैसला हाल ही में नियमों के बदलाव में लिया गया है लेकिन इसमें ऑनलाइन ट्रांसलेशन के लिए कुछ शर्तें भी हैं।

डिजिटलाइजेशन के दौर में अब देश को कैशलेस बनाने की ओर एक कदम उठाते हुए शायद इस सुविधा को ज्यादा सुविधाजनक बनाने के लिए स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने कमर कस ली है. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया ने अपने ग्राहकों के लिए अब अनलिमिटेड फ्री ट्रांजैक्शन का ऑफर भी दे दिया है लेकिन इस ऑफर का लाभ सिर्फ और सिर्फ वही होता उठा सकते हैं जिनके खाते में कम से कम ₹25000 की राशि हमेशा उपलब्ध रहती है।

अनलिमिटेड ट्रांजैक्शन फ्री उसी को मिल सकते हैं जो अपने खाते में हर वक्त ₹25000 रखेगा यदि आपके खाते में पिछले महीने ₹25000 से ज्यादा रहे हैं तो आप इस महीने के लिए अनलिमिटेड ट्रांजैक्शन कर सकते हैं वहीं दूसरी तरफ आरबीआई ने बैंकों को निर्देश दिए हैं कि वह अपने सभी ग्राहकों को यह बता दें कि वह कितने ट्रांजैक्शन फ्री दे रहे हैं जिसमें ऑनलाइन ट्रांजैक्शन को मुख्य तौर पर कहा गया है आरबीआई का मानना है जितने ज्यादा डिजिटल ट्रांजैक्शन होंगे उतना ज्यादा हम सिस्टम में पारदर्शिता लाने में कामयाब हो जाएंगे।

पिछले कुछ समय से लगातार भारत सरकार और आरबीआई मिलकर डिजिटल ट्रांजैक्शन पर बढ़ावा दे रही है नोटबंदी के बाद देखने को मिला था कि डिजिटल ट्रांजैक्शन की बहुत तेजी से डिमांड बढ़ी थी इसी को देखते हुए बाजारों में पीओएस सिस्टम और डिजिटल ट्रांजैक्शन के लिए पेटीएम जैसी कंपनियों ने अपने पैर जमा लिए।

यही कारण है कि डिजिटल ट्रांजैक्शन में पारदर्शिता लाने के लिए आरबीआई बैंकों को निर्देश जारी कर रही है जिससे कि बैंक से भी ज्यादा से ज्यादा ट्रांजैक्शन डिजिटल किए जा सके इसमें सीधा फायदा स्टेशनरी बचाने में भी होगा और जनता को भी सहूलत मिलेगी डिजिटल के तहत 24 घंटे पैसे का लेनदेन भी आराम से किया जा सकता है।

लगातार ग्रामीण क्षेत्रों में बैंकों को डिजिटलाइजेशन की तरफ बढ़ावा दिया जा रहा है ग्रामीण क्षेत्रों के ग्राहकों के लिए फ्री ट्रांजैक्शंस के लिए मीट को भी बढ़ाया जा सकता है जैसे कि ग्रामीण क्षेत्रों में भी डिजिटल ट्रांजैक्शन में बढ़ोतरी हो सके शहरी क्षेत्र में डिजिटल ट्रांजैक्शन अपने पैर जमा चुका है लेकिन हिंदुस्तान की आधे से ज्यादा आबादी ग्रामीण क्षेत्र में रहती है और बैंकों को भी इसीलिए ग्रामीण क्षेत्रों में सबसे ज्यादा ग्राहकों से फायदा मिल सकता है।