इन 3 चीजों के सेवन से किडनी हो जाती है खराब, नहीं है कोई इलाज

0
967

किडनी खराब होने का सीधा मतलब है आप की मौत

हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग किडनी होता है क्योंकि इसका काम हमारे शरीर के अंदर फैले खराब तत्वों को साफ करना, हमारे खून को साफ करने जिस से की अंगों को ठीक तरह से काम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा शरीर के अंदर पहुचे अधिक पानी को भी बाहर निकालने का काम किडनी की सहायता से होता है।

किडनी को आम शब्दों में जिस्म का फिल्टर प्लांट कहा जाता है यानी कि यह फिल्टर करने का काम करता है जो जरूरी तत्व उन्हें रोककर फालतू चीजों को जिस्म से बाहर का रास्ता दिखाता है।

अब आप यह सोचिए जिस अंग का काम शरीर को स्वस्थ रखने का है अगर वही बीमार हो जाए तो क्या होगा जब किडनी ही स्वस्थ नहीं होगी तो जिस्म स्वस्थ कैसे हो सकता है आजकल सभी दिक्कतों का यह एक महत्वपूर्ण कारण भी है क्योंकि हमारे खान-पान हमारी किडनी को खराब कर रहा है जिसकी वजह से हमारे फिल्टर प्लांट सही ढंग से काम नहीं करता और आए दिन हम बीमारी की चपेट में आ जाते हैं।

अगर आप चाहते हैं कि आप एक स्वस्थ जीवन जी सके तो सबसे पहले आपको अपनी किडनी का ख्याल रखना होगा, आपको अपनी किडनी को स्वस्थ रखना होगा जिससे कि आप रोजमर्रा की दिक्कतों से बच सकें इसके लिए देसी इलाज सबसे बढ़िया उपाय हैं कुछ ऐसे फल भी हैं जिन्हें खाकर आप किडनी को स्वस्थ रख सकते हैं साथ ही साथ आप अपने खान पान से भी इसको स्वास्थ रखने का काम कर सकते है।

इन 4 चेज़ो के सेवन से होता है नुकसान

जंक फूड

आजकल जिंदगी की भागदौड़ में हम लोग जंक फूड पर कुछ ज्यादा ही विश्वास जताने लगे हैं सुबह जल्दी उठकर ऑफिस भागने की जद्दोजहद में हम नाश्ते को तरजी ना देकर जंक फूड का सेवन करते हैं सबसे ज्यादा हमारे देश के अंदर युवा पीढ़ी जंक फूड की चपेट में आ चुका है. 8 साल से 18 साल की उम्र तक के बच्चे जंक फूड सेवन में सबसे आगे हैं यही कारण है भारत के अंदर कम उम्र के बच्चों में भी किडनी फेलियर की दिक्कतें सामने आ रही है।

डॉक्टरों का कहना है जंक फूड से होने वाले नुकसान के बारे में युवा पीढ़ी को सही ढंग से मालूम नहीं है इसमें भरपूर मात्रा में मसालों का इस्तेमाल किया जाता है जिसकी वजह से हमारी बॉडी में सोडियम और फास्फोरस की मात्रा बढ़ जाती है जिसका सीधा असर हमारी किडनी पर पड़ता है और किडनी सही ढंग से काम करना छोड़ देती है

गोश्त का अधिक सेवन

किडनी के लिए अगर दूसरी सबसे घातक चीज मानी जाए तो वह मांस का सेवन है यानी की गोश्त सबसे ज्यादा इस्तेमाल होने वाला चिकन, मटन है बाकी अन्य मीट भी इसमें शामिल हैं. ज्यादातर मीट के अंदर एनिमल प्रोटीन की मात्रा ज्यादा होती है जिसकी वजह से वह हमारी किडनी पर सीधा असर डालता है कई स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि गोस्ट के सेवन से हमारी उम्र लगभग 5 से 7 साल कम हो जाती है।

आजकल युवा पीढ़ी का मीट का सेवन करना ट्रेंड बन गया है मास के अंदर मौजूद एनिमल प्रोटीन सबसे ज्यादा इंसान के मस्तिष्क को नुकसान पहुंचाता है जिस वजह से याददाश्त कमजोर होती है, मांस का सेवन करने से एनिमल प्रोटीन की बॉडी के अंदर एंट्री करने से डाइजेशन तक बॉडी को कई चीजों की दिक्कतों का सामना करना पड़ता है यही कारण है कि हमारी किडनी पर भी इसका अधिक लोड पड़ता है और किडनी सही ढंग से काम नहीं करती।

स्मोकिंग

स्मोकिंग करने वाले व्यक्ति का ब्लड प्रेशर और ब्लड सरकुलेशन में दिक्कत आने लगती है हृदय की गति भी तेज हो जाती है जिसके चलते हमारे बॉडी के अंदर बहुत सी पतली नशे में ब्लॉक होने लगती हैं. स्मोकिंग करने से ज्यादातर हर्ट अटैक और किडनी फैलियर की दिक्कत सामने आती है भारत के अंदर बहुत तेजी से दिल के मरीजों की संख्या बढ़ी है जिसका एक महत्वपूर्ण कारण स्मोकिंग है डायबिटीज में भी किडनी फेलियर होने का ज्यादा चांसेस रहते हैं और स्मोकिंग करने वाले व्यक्ति के लिए यह चांस दोगुने हो जाते हैं।

पानी का कम इस्तेमाल

जैसा कि आपको बताया है कि किडनी हमारा फिल्टर प्लांट है और फिल्टर प्लांट तभी सही से काम करता है जब उसमें पानी की सही मात्रा पहुंचे कम पानी पीने से भी किडनी में दिक्कत होती है क्योंकि यह सही से फिल्ट्रेशन नहीं कर पाता जिसका सीधा नुकसान हमारी किडनी को होता है लोग अक्सर पानी की जगह कोल्ड ड्रिंक का प्रयोग करते हैं कोल्ड ड्रिंक या सॉफ्ट ड्रिंक के प्रयोग से भी किडनी के खराब होने के चांसेस बढ़ जाते हैं।